विशेष रपट

संवैधानिक आंदोलन की राह

तब सन् 1949 था। अब 2015 है। महीना एक ही है, नवंबर। अंतर 66 साल का है। इतने सालों बाद पहली बार संसद में...

मुलाक़ात

राहुल को जेल जाना होगा : डॉ. स्वामी

डॉ.सुब्रह्मण्यम स्वामी आर-पार की राजनीति के लिए विख्यात हैं। उनकी ख्याति विरोधियों की नजर में कुख्यात हो जाती है। इससे बेपरवाह डॉ. स्वामी निरंतर...

आरक्षण में नाजायज घुसपैठ है- धीरूभाई शेठ

धीरूभाई शेठ उन गिने-चुने समाजशास्त्रियों में हैं, जो अकादमिक अध्ययन को आंदोलनों के अनुभवों से एक नतीजे पर पहुंचाते हैं। सामाजिक विषमता के प्रश्न...

शख्सियत

कला-संस्कृति

हिंदी सिनेमा के शोमैन- राजकपूर

राजकपूर को हिंदी सिनेमा का शोमैन कहा जाता है। साथ ही वे महान निर्माता और निर्देशक भी थे। उन्होंने ‘आवारा’, ‘बूट पॉलिश’ और श्री...

सोशल मीडिया

62,659फॉलोवरफॉलो करें
13,065सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें
- Advertisement -

मनोरंजन

बहस

बोले बहुत अब सुनिए भी

साहित्य अकादमी अपना अध्यक्ष खुद चुनती है। इस मायने में वह अन्य सरकारी अकादमियों से भिन्न है। अन्य अकादमियों में जो नियुक्तियां होती हैं,...

सम्पादक की पसंद

बिहार की चुनावी घुड़दौड़

बिहार चुनाव इस समय घुड़दौड़ की तरह लग रहा है, जहां पर सभी घोड़े जीत के लिए ट्रैक से बाहर दौड़ रहे हैं। लालू तो...

चुनाव सुधार शेष है

खेल, कला-संस्कृति
क्या संविधान वास्तव में पंथनिरपेक्ष है?

क्या संविधान वास्तव में पंथनिरपेक्ष है?

‘पंथनिरपेक्ष’ शब्द का संविधान की उद्देशिका में समावेश करने का केवल इतना अर्थ हुआ कि हमने नामपट्ट में राज्य को पंथनिरपेक्ष घोषित कर दिया। इस...

रूस ही गए थे नेताजी

नेताजी सुभाष चंद्र बोस 23 अगस्त, 1945 को रूस में दाखिल हो गए थे। सारे संकेत और साक्ष्य यही बता रहे हैं। इसके दो मतलब...

तिहाड़ का अनोखा बंदी

'सहारा संसार' के विधाता सुब्रत रॉय हमेश ही विवादों में रहे हैं। उन पर जब बवंडर आया वे उससे बेपरवाह रहे। क्यों? यह बताने...

किताब का संसार

अखबारों में चुनावी तापमान

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सूबे के अखबारों की सुर्खियों में बने रहने के लिए तरह-तरह के पापड़ बेलने पड़ रहे हैं। जबकि...

खेल

अर्थ जगत

विज्ञान